Now Reading
घर बनाने से पहले पेड़ लगाइये

घर बनाने से पहले पेड़ लगाइये

घर बनाने से पहले पेड़ लगाइये
2 MINS READ

ग्लोबल वार्मिंग, मौसम का बदलता मिजाज़ और एसिड वाली बारिश जैसी पर्यावरण से जुड़ी समस्यायें दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। इसका कारण भी हम सभी जानते है और वह लगातार पेड़ों की घटती संख्या व बढ़ता प्रदूषण है। इस समस्या का बस अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। बचपन से ही हम इसके बारे में पढ़ते-सुनते तो आ रहे हैं, लेकिन क्या हर कोई इस पर अमल कर रहा है?

आपको जानकर हैरानी होगी कि ज़मीनी स्तर पर इस समस्या का हल केरल के कोडुन्गल्लुर शहर ने किया है।

See Also

पेड़ लगाना अनिवार्य

केरल के कोडुन्गल्लुर शहर का म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन देश का पहला ऐसा म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन है, जिसने घर बनवाने से पहले पेड़ लगाना अनिवार्य कर दिया है। जो लोग ऐसा नहीं करेंगे, उनके घर का रजिस्ट्रेशन ही नहीं किया जायेगा। इस नियम के मुताबिक शहर में जो लोग अपना घर बना रहे हैं, उन्हें अपने कंपाउंड में कम से कम दो पेड़ आम या कटहल के लगाने होंगे। इसके बाद ही उनके घर का रजिस्ट्रेशन होगा। इतना ही नहीं, लोग इस नियम का पालन कर रहे हैं या नहीं, यह जांचने के लिये अधिकारियों की टीम है। यह टीम घर जाकर देखती है कि पेड़ों की देखभाल हो रही है या नहीं।

सबके लिये सबक

शहर को हरा-भरा बनाने और पर्यावरण को बचाने के लिये कोडुन्गल्लुर म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन की पहल वाकई सराहनीय हैं और इससे दूसरे शहरों को भी सबक लेना चाहिये। खासतौर पर मेट्रो शहरों को, जो कांकरीट के जंगल में बदल रहे हैं। आमतौर पर शहरों में हरियाली की कमी बहुत देखने को मिलती है, ऐसे में सबको कोडुन्गल्लुर म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन से सीख लेने की ज़रूरत है।

घर बनाने से पहले पेड़ लगाइये
पेंड लागाओ, हरियाली लाओ  | इमेज : फाइल इमेज

सबका प्रयास ज़रूरी

यदि कोडुन्गल्लुर म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन की तरह हर जगह बिल्डिंग बनाने वाले अपने कंपाउंड में इसी तरह कुछ पेड़ लगाना अनिवार्य कर दें, तो काफी हद तक पर्यावरण के असंतुलन को ठीक किया जा सकता है। पेड़ों की हरियाली लोगों की आंखों को भी सुकून देगी।

और भी पढ़े: लोकल उगने वाली फल-सब्ज़ियों के फायदे

अब आप हमारे साथ फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पर भी जुड़िये।

What's Your Reaction?
आपकी प्रतिक्रिया?
Inspired
0
Loved it
0
Happy
0
Not Sure
0
प्रेरणात्मक
0
बहुत अच्छा
0
खुश
0
पता नहीं
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FAQ