Now Reading
जहां महिलाओं ने रखा पहला कदम

जहां महिलाओं ने रखा पहला कदम

जहां महिलाओं ने रखा पहला कदम
3 MINS READ

आज़ादी की लड़ाई रही हो या फिर राजनीति, महिलाओं का योगदान कहीं भी कम नहीं रहा। पहली ऐसी महिलाये, जिन्होंने देश और समाज की बेहतरी के लिये काम किया।

जहां महिलाओं ने रखा पहला कदम
राजनीति में इतिहास रचने वाली महिलायें – सरोजिनी नायडू | इमेज: यूट्यूब

सरोजनी नायडू

‘नाइटेंगेल ऑफ इंडिया’ के नाम से जानी जाने वाली सरोजिनी नायडू राजनीतिज्ञ और कवयित्री होने के साथ-साथ एक मज़बूत और प्रभावशाली महिला भी थीं। वह भारतीय राज्य की पहली महिला गवर्नर थी। जब साल 1905 में लॉर्ड कर्ज़न ने बंगाल का विभाजन किया, तो इससे वह गहरे रूप से प्रभावित हुईं। जब देश आज़ादी के लिये लड़ रहा था, तब सरोजिनी नायडू कई प्रमुख लोगों के संपर्क में आई और इसके बाद उन्होंने खुद को राजनीति और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के लिए समर्पित कर दिया।

जहां महिलाओं ने रखा पहला कदम
राजनीति में इतिहास रचने वाली महिलायें – सुचेता कृपलानी | इमेज: फेमिनिज्म इंडिया 

सुचेता कृपलानी

सुचेता कृपलानी भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और राजनीतिज्ञ थीं। वह भारत की पहली महिला मुख्यमंत्री थीं, जो 1963 से 1967 तक उत्तर प्रदेश सरकार की प्रमुख रहीं। इससे पहले, 1962 में उन्होंने उत्तर प्रदेश की कानपुर सीट को जीता। सुचेता कृपलानी ने अपने सभी धन और संसाधन ‘लोक कल्याण समिति’ को दान कर दिये, जो राष्ट्रीय राजधानी में आर्थिक रूप से वंचित समूहों की सहायता के लिए बनाया गया था।

See Also

जहां महिलाओं ने रखा पहला कदम
राजनीति में इतिहास रचने वाली महिलायें – इंदिरा गांधी | इमेज: फाइल इमेज

इंदिरा गांधी

‘आयरन लेडी ऑफ इंडिया’ के नाम से जानी गई इंदिरा प्रियदर्शिनी गांधी, भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री थीं। वह 1966 से 1977 तक लगातार तीन बार भारत की प्रधानमंत्री चुनी गईं और वह चौथी बार प्रधानमंत्री बनकर देश की सेवा कर रही थी, जब उनके आकसमिक निधन ने देश को हिला दिया। उनके साहस को पूरा दुनिया सलाम करती थीं।

जहां महिलाओं ने रखा पहला कदम
राजनीति में इतिहास रचने वाली महिलायें – प्रतिभा पाटिल  | इमेज: आज तक 

प्रतिभा पाटिल

प्रतिभा पाटिल भारत की 12वीं राष्ट्रपति होने के साथ-साथ, पहली महिला राष्ट्रपति रही हैं। उनका यह कार्यकाल साल 2007 से 2012 के बीच था। इसके अलावा उनकी पहचान महिला सशक्तीकरण की दिशा में उठाये गये कई कदमों की वजह से भी रही हैं। उन्होंने महिलाओं पर हुए 1995 के बीजिंग सम्मेलन में भी भाग लिया था, जहां महिलाओं से संबंधित कई मुद्दों और चिंताओं के साथ-साथ महिलाओं के विकास और समानता के लिए एक वैश्विक कार्य योजना बनाने पर चर्चा की गई थी।

जहां महिलाओं ने रखा पहला कदम
राजनीति में इतिहास रचने वाली महिलायें  – मीरा कुमार  | इमेज: आज की खबर 

मीरा कुमार

साल 2009 में मीरा कुमार भारत की पहली महिला लोकसभा स्पीकर बनीं। कुमार पांच बार संसद सदस्य रह चुकी हैं। इससे पहले उन्होंने भारतीय विदेश सेवा के लिए यूके, मॉरिशियस और स्पेन के दूतावास में भी काम किया।

 

और भी पढ़े: रोल मॉडल से मिलती है आगे बढ़ने की प्रेरणा

अब आप हमारे साथ फेसबुक और इंस्टाग्राम पर भी जुड़िए।

What's Your Reaction?
आपकी प्रतिक्रिया?
Inspired
0
Loved it
0
Happy
0
Not Sure
0
प्रेरणात्मक
0
बहुत अच्छा
0
खुश
0
पता नहीं
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FAQ