Now Reading
ब्रूस ली से लें जीवन जीने की प्रेरणा

ब्रूस ली से लें जीवन जीने की प्रेरणा

  • मार्शल आर्ट चैंपियन ब्रूस ली सिखाते हैं जीवन में पॉज़िटिव रहना
ब्रूस ली से लें जीवन जीने की प्रेरणा

अभिनेता, मार्शल आर्टिस्ट ब्रूस ली ने अपनी ज़िंदगी में दुनिया में एक अलग अमिट छाप छोड़ी। आइए जानते ब्रूस ली से जुड़ी उनकी प्रेरणात्मक बातों को, जिन्हें अपने जीवन में अपनाकर हम कई बदलाव कर सकते हैं।

स्वस्थ्य रहने के लिये कसरत ज़रूरी

ब्रूस ली न केवल एक मार्शल आर्ट कलाकार के रूप में अपने कौशल के लिए सम्मानित थें, बल्कि अपनी फिटनेस के लिए भी खूब जाने जाते थें। वह अपने दिन की शुरुआत हमेशा कसरत करते थें, जिससे उन्हें मन को शांत करने और एकाग्रता बढ़ाने में मदद मिलती थी। यही एकाग्रता और लगन वह अपने काम में भी महसूस किया करते थें। हर काम में एकाग्रता और शांति चाहिये, इसलिये ज़रुरी है कि रोज़ सुबह कुछ मिनट के लिये व्यायाम और मेडिटेशन करें, जो आपको दिनभर एक्टिव रखने में मदद करेगा।

खुद पर निर्भर रहें

ब्रूस ली अपने जीवन को नियंत्रण में रखना पसंद करते थे। अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए किसी दूसरे पर निर्भर नहीं रहते थें, शायद यही वजह थी कि उन्होंने अपने पिता से कराटे की शिक्षा ली। ब्रूस ली एक संपन्न परिवार से होने के बावजूद जब वह पढ़ाई के लिए अमेरिका गए, तो वहां उन्होनें होटल में वेटर का काम भी किया। इससे वह अपने जीवन की छोटी -छोटी ज़रुरतों को पूरा किया करते थें।

See Also
दिव्यांग ने ई-वेस्ट से बनाई ई-बाइक

इस प्रकार यदि आप भी अपने जीवन में आत्मनिर्भर बनकर जीना चाहते है, तो इन छोटी-छोटी मगर काम की बातों को अपने जीवन में अपनाकर आत्मनिर्भरता वाला जीवन जी सकते हैं।   

ब्रूस ली से  लें जीवन जीने की प्रेरणा
प्रेरणाओं से भरा है ब्रूस ली का जीवन |इमेज : फेसबुक

हार ने दी नई चीज़ों को सीखने की चाह

ब्रूस ली अपने पूरे जीवन में केवल एक ही लड़ाई हारे थे। जब वह 13 साल के थे। वह एक स्ट्रीट फाइट में उतरे और विंग फाइटिंग के बारे में जानकारी न होने से वह फाइट हार गये। ली ने इस हार को स्वीकार किया और फिर उन्होंने विंग सीखने का फैसला किया और तब से, उन्होंने कभी भी लड़ाई नहीं हारी। हार को हार की तरह नहीं, बल्कि एक सबक की तरह ब्रूस ली ने इसे अपनाया।

खुद को करें प्रेरित  

वह हमेशा खुद को प्रेरित करने के लिये कुछ न कुछ सीखते रहते थें। अगर कोई नेगेटिव बात उनके ज़ेहन में आती, तो वह कोई न कोई किताब पढ़ लेते थे। यह उनकी सबसे अच्छी साथी थी। उनकी लाइब्रेरी में 2000 से अधिक किताबें थी।

ब्रूस ली हमेशा कहते थें, “ हमेशा अपने असल रूप में रहो, खुद को व्यक्त करो, स्वयं में भरोसा रखो, किसी की नकल मत करो।“

इमेज : फेसबुक

और भी पढ़िये : ये हैं देश की रिवॉल्वर-दादी

अब आप हमारे साथ फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पर भी जुड़िये।

What's Your Reaction?
आपकी प्रतिक्रिया?
Inspired
0
Loved it
0
Happy
0
Not Sure
0
प्रेरणात्मक
2
बहुत अच्छा
0
खुश
0
पता नहीं
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FAQ